राजस्थान के जैसलमेर जिले से १८ किलोमीटर की दूरी पर स्थित गाँव है – “कुलधरा”. कभी अत्यंत समृद्ध यह गाँव आज खंडहर में तब्दील हो चुका है. रहस्यमयी और विचित्र गतिविधियों के कारण यह ‘भूतों का गाँव’ कहलाता है. हुआ यूं कि १८२५ की एक रात एकाएक यह गाँव खाली कर दिया गया. किवंदती है कि जाने के पूर्व गाँव के निवासियों ने यह श्राप दिया कि कोई इस गाँव में नहीं बस पायेगा. यदि किसी ने यहाँ बसने की कोशिश की, तो वह बर्बाद हो जायेगा. तब से यह गाँव वीरान और सुनसान पड़ा हुआ है. उस श्राप के कारण लोग इसे “श्रापित गाँव” मानते हैं.

Translate »