कुत्ते की पूँछ : तेनालीराम की कहानी | Kutte Ki Poonch Tenali Ram Story In Hindi

अपनी बुद्धिमानी और चतुराई के कारण तेनालीराम महाराज कृष्ण देवराय के अतिप्रिय थे. इस कारण राजगुरू और अन्य दरबारी उनसे ईर्ष्या करते थे. सभी ऐसे अवसर की प्रतीक्षा में रहते थे, जब वे तेनाली राम को महाराज के समक्ष नीचा दिखा सकें. एक दिन राजगुरू ने सबके साथ मिलकर तेनालीराम को अपमानित करने की योजना बनाई और महाराज के पास जा पहुँचे.