एक शेर अपनी गुफा में सो रहा था. तभी कहीं से एक चूहा वहाँ आ गया और शेर के ऊपर चढ़कर कूद-कूदकर खेलने लगा. चूहे की इस धमाचौकड़ी से शेर की नींद टूट गई. आँखें खोलने पर उसने चूहे को अपने ऊपर कूदते हुए पाया. गुस्से में उसने चूहे को अपने पंजों में जकड़ लिया. वह उसे अपने पंजे में मसल देना चाहता था.

बहुत समय पहले की बात है. दो चूहे बहुत अच्छे मित्र हुआ करते थे. दोनों में से एक चूहा शहर में रहता था और एक गाँव में. लेकिन दोनों अपने कुशल-मंगल होने की जानकारी दोनों स्थानों पर यात्रा करने वाले चूहों से लेते रहते थे. एक दिन शहर में रहने वाले चूहे का मन गाँव में रहने वाले अपने मित्र चूहे से मिलने का हुआ और उसने यह खबर एक गाँव जाने वाले चूहे की मदद से अपने मित्र तक पहुँचाई.

बहुत समय पहले की बात है. एक खुशहाल राज्य था, जिसमें एक राजा और रानी रहते थे. उनकी कोई संतान नहीं थी. इस कारण वे दोनो बहुत ही दु:खी थे. एक दिन रानी राजमहल के सरोवर के किनारे सूर्य-देवता से संतान प्राप्ति के लिए प्रार्थना कर रही थी. तभी सूर्य की एक चमकीली किरण वहाँ पड़े एक पत्थर पर पड़ी और वो पत्थर एक मेंढक में बदल गया. मेंढक ने भविष्यवाणी की कि एक वर्ष के भीतर रानी एक सुंदर बच्ची को जन्म देगी.

Translate »