एक बार एक नौजवान लड़का महान दार्शनिक सुकरात के पास आया और उनसे पूछा, “सफलता का रहस्य क्या है?” सुकरात ने उससे कहा, “मैं तुम्हें कल उत्तर दूंगा. कल तुम मुझे नदी के किनारे मिलो.” दूसरे दिन वो लड़का सुकरात से नदी के किनारे मिला. सुकरात उसे लेकर नदी में आगे बढ़ने लगे. वे दोनो नदी में तब तक आगे बढ़ते रहे, जब तक नदी का पानी उनके गले तक न आ गया. वहाँ पहुंचकर अचानक ही सुकरात ने उस लड़के का सिर पकड़कर पानी में डुबो दिया.

बात उन दिनों की है, जब लाल बहादुर शास्त्री रेल मंत्री थे. रेल मंत्री होकर भी उनका रहन-सहन बिल्कुल साधारण था. वे स्वयं नियमों का सख्ती से पालन करते थे और दूसरों से भी भी यही अपेक्षा रखते थे. एक बार उन्हें बनारस से ट्रेन पकड़नी थी. लेकिन, लाख कोशिशों के बाद भी वे समय पर स्टेशन पर नहीं पहुँच सके. ट्रेन के जाने का सिग्नल हो चुका था. लेकिन जैसे ही गार्ड को पता चला कि मंत्री महोदय स्टेशन पहुँचने ही वाले है, उसने हरी झंडी नीची कर दी और शास्त्री जी का इंतजार करने लगा.

एक दिन एक साधु स्वामी विवेकानंद के पास आया. वह चिंतित प्रतीत हो रहा था. अभिवादन करने के उपरांत उसने अपनी व्यथा स्वामी जी को सुनाई, “स्वामी जी! मुझे शांति नहीं मिलती. मैंने सब कुछ त्याग दिया है. मोह माया के बंधनों से मुक्त हो गया हूँ.

Translate »