Heart Touching Story In Hindi : एक अमीर आदमी और उसकी पत्नी अपनी शादी की पाँचवी सालगिरह बड़े ही धूम-धाम से मनाना चाहते थे. इस ख़ुशी के अवसर पर उन्होंने…

एक विधवा अंधी औरत का एक बेटा था, जिसे वह बहुत प्यार करती थी. वह चाहती थी कि पढ़-लिखकर उसका बेटा एक बड़ा आदमी बने. इसलिए गरीबी के बाद भी उसने कस्बे के सबसे अच्छे स्कूल में उसका दाखिला करवाया. लड़का पढ़ाई में तो अच्छा था, लेकिन एक बात से हमेशा परेशान रहा करता था. उसे स्कूल में दूसरे बच्चे ‘अंधी का बेटा’ कहकर चिढ़ाते थे. वह जहाँ भी दिख जाता, सब उसे ‘देखो अंधी का बेटा आ गया’ कहकर चिढ़ाने लगते.

एक लड़का कई सालों से लाइलाज़ कैंसर से जूझ रहा था. बीमारी के कारण वह अपना अधिकांश समय घर पर ही गुज़ारा करता था. एक दिन उसने अपनी माँ से कहा, “माँ, मैं घर में रहते-रहते ऊब चुका हूँ. कुछ देर के लिए बाहर जाना चाहता हूँ.” माँ ने उसे बाहर जाने की अनुमति दे दी. वह बाहर निकला और आस-पास की गलियों में घूमने लगा.

माँ रसोई में काम कर रही थी. तभी उसका १० वर्ष का बेटा उसके पास आया और बिना कुछ कहे एक काग़ज़ का टुकड़ा आगे बढ़ा दिया. माँ के हाथ गीले थे. पहले उसने अपने हाथ पोंछे, फिर उस काग़ज़ को लेकर पढ़ने लगी. उस पर लिखा था : लॉन की घास काटने के – २० रुपये

जन्म के पूर्व बच्चे के मन में कई शंकायें थी. उनके समाधान के लिए वह भगवान के पास गया और कहने लगा, “ईश्वर! आप मुझे धरती पर भेज रहे हैं. लेकिन देखिये ना, मैं कितना छोटा हूँ. अपने आप तो मैं अपना ध्यान भी नहीं रख सकता. अब आप ही बताइए कि मैं वहाँ कैसे रहूँगा?”

Translate »