Moral Story Motivational story
Notice: _usort_terms_by_ID is deprecated since version 4.7.0! Use wp_list_sort() instead. in /home/content/n3pnexwpnas02_data03/35/3865135/html/wp-includes/functions.php on line 3923

साधु की सीख : प्रेरणादायक कहानी | Sadhu Ki Seekh Motivational Story In Hindi

Sadhu Ki Seekh Motivational Story In Hindi
Sadhu Ki Seekh Motivational Story In Hindi

Sadhu Ki Seekh Motivational Story In Hindi : एक गाँव में एक साधु रहता था. वह ‘बारिश वाले बाबा’ के नाम से जाना जाता था. जब भी वह नाचता, बारिश होती थी. बारिश न होने की स्थिति में गाँव के लोग उसकी सहायता लेने जाया करते थे.

एक बार शहर से चार लड़के गाँव में आये. जब उन्हें ‘बारिश वाले बाबा’ के बारे में पता चला, तो वे उसका मजाक उड़ाने लगे. उन्होंने गाँव वालों के सामने दावा किया कि यदि उस साधु के नाचने से बारिश हो सकती है, तो हमारे नाचने से भी होगी. और यदि हमारे नाचने से बारिश नहीं हुई, तो साधु के नाचने से भी नहीं होगी.

यह तय किया गया कि अगले दिन वे लोग बारिश लाने के लिए साधु की उपस्थिति में सभी गाँव वालों के सामने नाचेंगे और देखेंगे कि बारिश होती है या नहीं.

अगले दिन सभी लोग गाँव के मुखिया के खेत पर इकठ्ठे हुए. साधु भी वहाँ पर आया. शहर से आये लड़कों ने वहाँ नाचना शुरू किया.

आधा घंटे तक लड़के नाचते रहे, लेकिन बारिश नहीं हुई. एक लड़का थककर बैठ गया. दूसरे लड़के नाचते रहे. एक घंटा बीत गया, लेकिन बारिश नहीं हुई. आखिरकार सभी लड़कों की हिम्मत जवाब दे गई और वे सभी थक-हारकर बैठ गए.

अब साधु की बारी थी. वह उठा और नाचने लगा. पहला घंटा बीता…बारिश नहीं हुई…..साधु नाचता रहा……दूसरा घंटा बीता……बारिश नहीं हुई……साधु नाचता ही रहा. इस तरह घंटे गुजरते रहे और वह नाचता रहा.

पूरा दिन निकल गया, किंतु साधु नहीं रुका. जब शाम घिरने लगी, तो सबने देखा कि अचानक ही बादल घुमड़ आये हैं. फिर क्या? जमकर बारिश हुई. तब जाकर साधु के कदम रुके.

शहर से आये लड़के यह देख हैरत में पड़ गए. वे साधु एक सामने हाथ जोड़कर खड़े हो गये और पूछने लगे, “बाबा! हम भी नाचे, तब तो बारिश नहीं हुई. लेकिन आपके नाचने से बारिश हो गई. ऐसा कैसे हुआ?”

साधु ने उत्तर दिया, “बच्चों!  मैं यह सोचकर नाचना शुरू करता हूँ कि जब मैं नाचूंगा, तो बारिश होगी ही होगी और उसके बाद मैं तब तक नहीं रुकता, जब तक बारिश नहीं हो जाती.”

दोस्तों, सफ़लता प्राप्ति के लिए हमें अपने जीवन में साधु की इस सीख को अपनाना होगा. हमें खुद पर विश्वास करना होगा कि हम अवश्य सफ़ल होंगे. उसके बाद अनवरत तब तक प्रयास करते रहना होगा, जब तक हम सफ़ल नहीं हो जाते. यही सफ़लता प्राप्ति का मूलमंत्र है.


Friends, आशा है आपको यह “Sadhu Ki Seekh Motivational Story In Hindi” पसंद आई होगी. आप इसे Share भी कर सकते है. कृपया अपने comments के माध्यम से बताएं कि आपको यह कहानी कैसी लगी. नई post की जानकारी के लिए कृपया subscribe करें. धन्यवाद.

Read More Motivational Stories :

Leave a Reply

Translate »
%d bloggers like this: