Mullah Nasruddin

दक्षता : मुल्ला नसरुद्दीन का किस्सा  | Efficiency Mullah Nasruddin Story In Hindi

Efficiency Mullah Nasruddin Story In Hindi
Efficiency Mullah Nasruddin Story In Hindi

Efficiency Mullah Nasruddin Story In Hindi : एक दिन मुल्ला नसरूद्दीन को उसके मालिक ने अपने पास बुलाया. वह उसके काम से खुश नहीं था.

उसने शिकायती अंदाज़ में कहना चालू किया, “नसरूद्दीन! तुम हर काम बहुत धीमी गति से करते हो. तुम्हें कोई भी सामान खरीदने के लिए बार-बार बाज़ार जाने की ज़रूरत नहीं है. तुम एक बार जाकर भी सारा सामान ला सकते हो.”

मुल्ला ने सिर हिलाकर सारी बात सुन ली. मालिक भी उसे समझाकर शांत हो गया.

कुछ दिन बीतने के बाद मालिक ने मुल्ला को बुलाया. वह बीमार था. उसने मुल्ला से कहा, “मैं बीमार हूँ. जाओ हकीम को लेकर आओ.”

मालिक की बात सुनकर मुल्ला हकीम को लेने चला गया. वह हकीम के साथ दो और लोगों को भी लेकर आया. उन्हें देख उसके मालिक ने पूछा, “नसरूद्दीन! ये दो लोग कौन हैं?”

मुल्ला ने जवाब दिया, ”मालिक! अपना समय बचाने के लिए मैं इमाम भी साथ लेकर आया हूँ, यदि हमें आपकी सेहत के लिए दुआ करनी पड़े तो; और आपको दफ़नाने वाला भी, यदि आप मर गए तो.”

मालिक हक्का-बक्का होकर मुल्ला नसरूद्दीन को देखता रह गया. ऐसे थे मुल्ला नसरूद्दीन.


Friends, यदि आपको “Efficiency Mullah Nasruddin Story In Hindi” पसंद आई हो, तो आप इसे Share कर सकते है. कृपया अपने comments के माध्यम से बताएं कि आपको यह कहानी कैसी लगी. नई post की जानकारी के लिए कृपया subscribe करें. धन्यवाद.

Read More Stories In Hindi:

¤ मुल्ला नसरुद्दीन की हाज़िरजवाबी : मुल्ला नसरुद्दीन का किस्सा

¤ बीरबल की खिचड़ी : अकबर बीरबल की कहानी

¤ लोहे की गर्म सलाखें : अकबर बीरबल की कहानी

¤ रेत और चीनी का मिश्रण : अकबर बीरबल की कहानी

¤ दोषी कौन : तेनाली राम की कहानी

¤ सबसे कीमती उपहार : तेनाली राम की कहानी

¤ तेनाली राम और मनहूस : तेनाली राम की कहानी

 

 

Leave a Reply

Translate »
%d bloggers like this: