दो मुँह वाली चिड़िया : बाल कथा | Do Munh Wali Chidiya Story for Kids In Hindi

Do Munh Wali Chidiya Story for Kids In Hindi
Do Munh Wali Chidiya Story for Kids In Hindi

Do Munh Wali Chidiya Story for Kids In Hindi : एक वन में बरगद में एक पेड़ पर एक चिड़िया घोंसला बनाकर रहती थी. वह देखने में बड़ी विचित्र थी. उसके दो सिर थे.

एक दिन की बात है, वह चिड़िया भोजन की तलाश में इधर-उधर उड़ रही थी. उड़ते-उड़ते एक स्थान पर चिड़िया के दांये मुँह को एक फल दिखाई पड़ा. वह बहुत खुश हुआ और फल को बड़े ही चाव से खाने लगा.

फल देखकर बांये मुँह में भी पानी आ गया. उसने दांये मुँह से प्रार्थना की कि वह उसे भी फल चखने दे, किंतु दांये मुँह ने उसे झिड़कते हुए कहा कि हम दोनों के पेट तो एक ही है, मेरे इस फल को खाने से हमारा पेट तो भर ही जायेगा. तुम्हें इसे खाने की क्या आवश्यकता है? उसकी बात सुनकर बांया मुँह गुस्से की आग में जल उठा और बदला लेने की सोचने लगा.

अगले दिन फिर से चिड़िया भोजन की तलाश में जंगल में उड़ रही थी. इस बार बांये मुँह को एक विचित्र सुनहरा फल दिखाई पड़ा और वह उसे खाने के लिए मचल उठा. जैसे ही वह फल खाने को हुआ, पास ही के पेड़ पर बैठे कौवे ने कहा कि वह फल अत्यंत विषैला है, उसे मत खाओ.

कौवे की बात सुनकर दांया मुँह भी चौंका और उसने भी बांये मुँह को चेताया. किंतु बांया मुँह बदले की भावना से भरा हुआ था. उसे दांये मुँह से एक दिन पहले का हिसाब चुकाना था. इसलिए उसने दांयें मुँह की बात अनसुनी कर दी और फल खाने लगा. बांयें मुँह के फल खाते ही चिड़िया के प्राण पखेरू उड़ गए.

मित्रों, इस कहानी में चिड़िया परिवार का प्रतीक है और दांया तथा बांया मुँह परिवार के किसी भी रिश्ते/सदस्य का. प्रायः देखा जाता है कि एक ही परिवार के सदस्य एक-दूसरे के प्रति द्वेष और बैर भाव रखते है. वे एक-दूसरे को नीचा दिखाने और नुकसान पहुँचाने की सोचते रहते है. परिवार के किसी भी सदस्य का नुकसान होने पर पूरे परिवार का ही नुकसान होता है. इसलिए परिवार में सबको मिल-जुलकर प्रेमभाव से रहना चाहिए.


Friends, यदि आपको Do Munh Wali Chidiya Story for Kids In Hindi पसंद आई हो तो आप इसे Share कर सकते है. कृपया अपने comments के माध्यम से बताएं कि आपको यह कहानी कैसी लगी? नई post की जानकारी के लिए कृपया subscribe करें. धन्यवाद.

आप पढ़ रहे थे Do Munh Wali Chidiya Story for Kids In Hindi. इन  कहानियों को भी पढ़ें :

¤ तीन गायें : बाल कथा | The Three Cows Story For Kids In Hindi

¤ बंदर और टोपीवाला : बाल कथा | The Monkey And The Hat Seller Story For Kids In Hindi

¤ अंगूर खट्टे हैं : बाल कथा | The Grapes Are Sour Story For Kids In Hindi

Leave a Reply